मुख्यमंत्री योगी ने विजयादशमी पर एक बड़ा हादसा टाल दिया, जो राज्य भर में छेड़छाड़ करने वाले और दुराचारियों के लिए शर्मनाक होगा।

0



लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश में अपराधियों और दुष्कर्मियों के खिलाफ एक महान अभियान शुरू करने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री ने दो टूक शब्दों में कहा है कि महिलाओं, बेटियों, नाबालिग बच्चों और अनुसूचित जातियों के खिलाफ अपराध करने वालों का सभ्य समाज में कोई स्थान नहीं है। ऐसे असामाजिक तत्वों के खिलाफ ऐसी कार्रवाई की जानी चाहिए, कि वह अपने गले में तख्ती लटकाए, माफी मांगे या राज्य से भाग जाए। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि 17 अक्टूबर से शुरू होने वाले ti मिशन शक्ति ’के पहले चरण में नौ दिनों तक हर थाने में ऐसे असामाजिक तत्वों की सूची बनाई जाए। उनकी गतिविधियों पर नजर रखें। विजयदशमी के ठीक बाद इन पर कार्रवाई का अभियान शुरू करें। अपने परिवार के सदस्यों को उनके कार्यों के बारे में बताना और उनके खिलाफ सबसे कड़ी कार्रवाई करना। ऐसी कार्रवाइयों को प्रतिदिन रिपोर्ट किया जाना चाहिए और शासन स्तर पर समीक्षा की जानी चाहिए। घोषित दुष्कर्मों के चौराहों की तस्वीरें डालें।

योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री गुरुवार को नवरात्रि, दशहरा, दीपावली सहित आगामी त्योहारों के मद्देनजर बेहतर कानून व्यवस्था के लिए पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए तैयारियों का जायजा ले रहे थे। मुख्यमंत्री आवास पर हुई इस बैठक में सरकार के स्तर के वरिष्ठ अधिकारियों के अलावा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जिले के अधिकारी भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों को अनुसूचित जाति, धर्म गुरुओं या किसी भी जन प्रतिनिधि के साथ किए गए अपराध की गंभीरता और संवेदनशीलता पर विशेष ध्यान देना चाहिए। इसमें लापरवाही न बरतें।

यह भी पढ़े -  कठुआ के वकील के रूप में #Arrest_Deepika_Rajawa रुझान देवी की पूजा के साथ यौन अपराधों को जोड़ता है

सीएम योगी आदित्यनाथ

इसके साथ ही, मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस स्टेशन में भ्रष्टाचार की शिकायतों में, पुलिस अधीक्षक स्तर पर जवाबदेही भी तय की जाएगी। अगर कोई अधिकारी किसी माफिया या अपराधी के साथ शामिल है तो उस अधिकारी के खिलाफ ऐसी कड़ी कार्रवाई की जाएगी, जो नजीर बन जाएगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here