गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों के साथ चीनी सैनिकों की हिंसक

सोमवार 15 जून को गलवान घाटी

Advertisement
Advertisement
में भारतीय सैनिकों के साथ चीनी सैनिकों की हिंसक झड़प को लेकर अमेरिका ने एक बड़ा खुलासा किया है। अमेरिकी ख़ुफ़िया विभाग के मुताबिक चीन ने गलवन घाटी में भारतीय सेना पर हमले करने का आदेश दिया था।

चीन के सबसे ताकतवर जनरल झाओ जोंगकी जोकि वेस्टर्न कमांड थिएटर का प्रमुख है, उसी ने चीनी सेना को गलवन घाटी में हमले को अंजाम देने का आदेश दिया था। जनरल झाओ जोंगकी पहले भी भारत के साथ कई पूर्व में हुए तनातनी को अंजाम दे चुका है।

जनरल झाओ जोंगकी भारत को अमेरिका के साथ नजदीकी रिश्ते को लेकर सबक सिखाना चाहता था। हालांकि ये चीन पर उल्टा भारी पड़ा, क्योंकि भारत के जहां 20 जवान शहीद हुए तो चीन के 40 से ज्यादा जवान मारे गए।

सूत्रों के हवाले से इस खबर में बताया गया है कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी चीनी सैन्य के इस कारनामे से पूरी तरह से परिचित थे और वह निश्चित रूप से इस आदेश के बारे में जानते होंगे।

चीनी सैनिकों ने उत्तरी भारत के लद्दाख क्षेत्र और अक्साई चिन के दक्षिण-पश्चिमी में अपने सैनिकों की संख्‍या को बढ़ा दिया था, जिससे दोनों के बीच तनाव पैदा हुआ। निजी जियो-इंटेलिजेंस फर्म हॉकआई 360 ने पिछले हफ्ते बताया कि मई के अंत तक चीनी पक्ष ने एक यहां पर सशस्त्र कर्मियों को बढ़ाया और स्व-चालित तोपखाने में वृद्ध‍ि की।

बता दें कि भारत ने भी चीन को करारा जवाब देने के लिए अपनी सेना को आपातकालीन हालात में हथियारों के प्रयोग की छूट दे दी है, जिसके बाद चीनी सैनिकों से भिड़त के समय में अगर कमांडर को लगता है कि वह हाथापाई की जगह हथियार प्रयोग कर सकता है तो उसे किसी से परमिशन की जरूरत नहीं होगी। इसके अलावा भारत ने यहां पर अपनी सड़क बनाने के काम को भी तेजी से करने का निर्णय किया है।

नवीनतम अपडेट प्राप्त करने के लिए DailyNews24 एंड्रॉइड ऐप भी डाउनलोड करें। अगर हमारा पोस्ट आप लोगो को पसंद आया तो हमारे फेसबुक पेज को फॉलो और लाइक जरूर करे।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here