बलिया गोलीकांड के मुख्य आरोपी लखनऊ में एसटीएफ के हत्थे चढ़े, 50 हजार का इनाम, बलिया गोलीकांड के आरोपी गिरफ्तार मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह

0



नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के बलिया में हुई फायरिंग के मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह को यूपी पुलिस की एसटीएफ ने राजधानी लखनऊ से गिरफ्तार कर लिया है। धीरेंद्र प्रताप सिंह पर 50 हजार का इनाम घोषित किया गया था। बता दें कि इनामी धीरेंद्र सिंह कई दिनों से पुलिस को चकमा दे रहा था, जिसकी वजह से यूपी पुलिस बहुत गंदी हो रही थी। वर्तमान में रविवार को एसटीएफ ने धीरेंद्र को लखनऊ के जनेश्वर मिश्र पार्क के पास से उठाया है। बता दें कि बलिया में कोटे की दुकान के आवंटन को लेकर प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा बुलाई गई खुली बैठक में पुलिस ने हत्या के मामले में अब तक कुल नौ लोगों को गिरफ्तार किया है, जिनमें से चार का नाम है और पांच अन्य शामिल हैं। इस मामले में पुलिस ने संतोष यादव और 50-50 हजार के अमरजीत यादव नाम के दो आरोपियों को भी गिरफ्तार किया है। इसके साथ ही रासुका और गैंगस्टर के तहत मुख्य आरोपी सहित छह लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई की गई है।

धीरेंद्र प्रताप सिंह बलिया

क्या है पूरा मामला

बलिया जिले की ग्राम सभा दुर्जनपुर और हनुमानगंज की दो कोटे की दुकानों का आवंटन किया जाना था। इसके लिए गुरुवार को दोपहर में पंचायत भवन में खुली बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में रेवती थाने के पुलिस बल के साथ एसडीएम बैरिया सुरेश पाल, सीओ बैरिया चंद्रकेश सिंह और बीडीओ बैरिया गजेंद्र प्रताप सिंह भी मौजूद थे। दुकानों के आवंटन के लिए चार स्वयं सहायता समूहों ने आवेदन किया, जिसमें दो समूहों मा साईं जगदंबा स्वयं सहायता समूह और शिव शक्ति स्वयं सहायता समूह के बीच वोट देने का निर्णय लिया गया।

यह भी पढ़े -  लद्दाख टिप्पणी को लेकर भारत ने बीजिंग की खिंचाई की

बलिया का मामला

अधिकारियों ने कहा कि जिस किसी के पास आधार या कोई अन्य पहचान पत्र होगा, उसे मतदान का अधिकार होगा। ऐसे मामले में, एक पक्ष के पास आधार और पहचान पत्र था, लेकिन दूसरे पक्ष के पास पहचान पत्र के रूप में कोई आईडी प्रूफ नहीं था। इसको लेकर दोनों पक्षों के बीच विवाद शुरू हो गया। मामला बिगड़ता देख अधिकारियों ने बैठक स्थगित कर दी। इसके बाद, दोनों पक्षों के बीच लड़ाई हुई। आरोप है कि धीरेंद्र ने अपनी पिस्टल से फायरिंग शुरू कर दी, जिसमें जयप्रकाश उर्फ ​​गामा पाल की गोली लगने से मौत हो गई।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here