बलिया गोलीकांड का मुख्य आरोपी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है, 25 हजार का इनाम घोषित, बलिया गोलीकांड में 25 हजार का इनाम मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह

0



नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के बलिया में गोलीबारी के मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह उर्फ ​​डब्ल्यू अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। इसके अलावा 6 और वांछित आरोपी भी धीरेंद्र के साथ फरार हैं। पुलिस ने इन सभी के खिलाफ 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया है। बता दें कि यह घटना 15 अक्टूबर को रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर गांव में हुई थी, जिसके बाद एसपी बलिया ने फरार आरोपियों पर यह इनाम राशि घोषित की है। घटना में धीरेंद्र के आरोपों पर, धीरेंद्र प्रताप सिंह ने खुद एक वीडियो जारी करते हुए कहा कि उन्होंने कोई गोली नहीं चलाई थी। उसी समय, धीरेंद्र सिंह ने मांग की थी कि इस पूरे मामले की ठीक से जाँच होनी चाहिए। धीरेंद्र प्रताप ने अपने स्पष्टीकरण में कहा था कि 15 अक्टूबर को राशन की दुकानों का आवंटन किया जाना था और इसीलिए आवंटन प्रक्रिया के लिए कई अधिकारी मौके पर थे। इसी मामले को लेकर मैं एसडीएम और बीडीओ से भी मिला।

धीरेंद्र प्रताप सिंह बलिया

धीरेंद्र प्रताप का कहना है कि उन्होंने अधिकारियों से कहा था कि इलाके में चीजें ठीक नहीं हैं, बुरी चीजें चल रही हैं। उन्होंने एसडीएम, बीडीओ और अन्य अधिकारियों पर भी भ्रष्टाचार के आरोप लगाए। धीरेंद्र प्रताप ने आरोप लगाया कि वे आवंटन प्रक्रिया को प्रभावित कर रहे थे। धीरेंद्र प्रताप ने इस घटना के लिए पुलिस और प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया।

बलिया का मामला

बता दें कि धीरेंद्र प्रताप सिंह बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह का करीबी बताया जा रहा है। इस मामले में सुरेंद्र सिंह के एक बयान ने भी योगी सरकार को गरीब बना दिया है। सुरेंद्र सिंह ने कहा था कि धीरेंद्र प्रताप सिंह ने आत्मरक्षा में गोली चलाई थी। इसके बाद से विपक्ष ने योगी सरकार पर हमला बोला है।

यह भी पढ़े -  सुशांत सिंह राजपूत के पिता हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर से मिले

सीएम योगी आदित्यनाथ

योगी सरकार अब तक की गई कार्रवाई में काफी सख्त नजर आ रही है। बता दें कि एडीजी के निर्देश पर हुई इस सनसनीखेज हत्या में पुलिस अधीक्षक (एसपी) ने तीन सब-इंस्पेक्टर, पांच कांस्टेबल और दो महिला कांस्टेबल को निलंबित कर दिया है। दस पुलिसकर्मियों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई से हड़कंप मचा हुआ है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here