भारत की मदद के लिए फ्रांस, बेल्जियम और उज्बेकिस्तान से मेडिकल आपूर्ति की खेप लेकर आए 3 प्‍लेन

0
Advertisement

नई दिल्ली। कोरोना वायरस संक्रमण की महामारी भयावह तेजी से बढ़े मामलों से निपटने के लिए भारत की मदद करने के लिए विश्व समुदाय से जरूरी चिकित्सा आपूर्ति, राहत सामग्री, ऑक्‍सीजन, जीवन रक्षक दवाओं के साथ- साथ आर्थिक मदद दुनिया के कई देशों से मिल रही है. देश में कोरोना संक्रमण की रफ्तार थमने का नाम नहीं ले रही है। देश में शनिवार को कोरोना संक्रमण के 3.92 लाख नए मामले सामने आए। यह शुक्रवार के 4 लाख नए मामलों से थोड़ा कम है। जबकि 3728 लोगों की मौत हुई। देश में 14 राज्य ऐसे हैं जहां 100 से अधिक मौते हुई हैं। 8 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में कोरोना के अब तक के सबसे अधिक मामले आए हैं। वहीं, राजधानी दिल्ली में लॉकडाउन के बावजूद कोरोना से होने वाली मौतों में इजाफा हो रहा है।

और पढ़े  अब कैसी है ममता बनर्जी की हालत? डॉक्टरों ने बताया दीदी का ताजा हाल

Advertisement

दोस्तों आपको बता दे की इसी क्रम में फ्रांस, बेल्जियम ( Belgium) और उज्‍बेकिस्‍तान (Uzbekistan) से मेडिकल सहायता, ऑक्‍सीजन कॉन्‍सन्‍ट्रेटर, रेमेडिसिविर (Remdesivir) लेकर रविवार को सुबह तक तीन उड़ानें आज सुबह तक पहुंच चुकी हैं. फ्रांस से मेडिकल आपूर्ति की एक खेप लेकर एक उड़ान आज सुबह भारत आ गई है दोस्तों आपको बता दे की बेल्जियमयम से रेमेडिसिविर (Remdesivir) की 9000 शीशियों की खेप भारत आ गई है.बेल्जियम से रेमेडिसिविर (Remdesivir) की 9000 शीशियों की खेप भारत आ गई है.भारत कोरोना वायरस की दूसरी भीषण लहर से जूझ रहा है और बीते कुछ दिनों से देश में कल शनिवार को 4 लाख से अधिक मामले आ आए, जबकि अस्पताल ऑक्सीजन और बिस्तरों की कमी का सामना कर रहे हैं.

और पढ़े  आजतक एंकर 'रोहित सरदाना' का कोरोना की वजह से हुआ निधन

दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दें कि रूस, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, आयरलैंड, बेल्जियम, रोमानिया, लक्समबर्ग, सिंगापुर, पुर्तगाल, स्वीडन, न्यूजीलैंड, कुवैत और मॉरीशस सहित करीब 40 से अधिक देश कोरोना महामारी से लड़ने में मदद करने के लिए भारत को चिकित्सा सहायता भेज रहे हैं. प्रमुख रूप से अमेरिका, रूस की सहायता के साथ ही यूएन की संस्‍था डब्‍ल्‍यूएचओ भी मदद पहुंचा रहा है

Advertisement
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here