Home Hot News क्या भारत में बिजली बिल राशि की ऑनलाइन जांच करना संभव है?...

क्या भारत में बिजली बिल राशि की ऑनलाइन जांच करना संभव है? यहा जांचिये

0

अन्य देशों की तरह भारत ने भी आधुनिक डिजिटलीकरण प्रक्रिया को अपना लिया है। डिजिटल इंडिया योजना एक ऐसी पहल है जिसे हाल के वर्षों में घोषित और क्रियान्वित किया गया है। और स्मार्टफोन भारतीय जनता को डिजिटल बाजार से परिचित कराने में मदद करने का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है। आजकल अपने घर में आराम से बैठकर मनचाहा उत्पाद खरीदना आसान है, लेकिन बिजली और अन्य बिलों का ऑनलाइन भुगतान करना और भी आसान है जिसके लिए आप आमतौर पर लंबी कतार में खड़े होते।

बिजली बिलों का ऑनलाइन भुगतान करना उतना ही आसान है जितना कि अपने प्रीपेड मोबाइल फोन को रिचार्ज करना या पोस्टपेड बिल का भुगतान करना। अपने बिजली बिल का ऑनलाइन भुगतान करने के लिए आपको बस एक स्मार्टफोन और एक सक्रिय इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता है। ऐसे कई तरीके हैं जिनसे आप आवश्यक भुगतान कर सकते हैं।

हालांकि, कई बार आप बिलिंग राशि से अनजान होते हैं और गलत भुगतान नहीं करना चाहेंगे। तो, ऐसे मामलों में आपको क्या करना चाहिए, लंबित बिजली बिल की राशि की जांच करने का सबसे आसान तरीका क्या है? नीचे पता करें:

UPI ऐप्स के जरिए बिजली बिल ऑनलाइन कैसे चेक करें

यह आपके लिए अपने बिजली बिल की राशि को ऑनलाइन जांचने के सबसे आसान तरीकों में से एक है। आप Google Pay, PhonePe, Paytm, और अन्य जैसे किसी भी उपलब्ध डिजिटल भुगतान ऐप का उपयोग कर सकते हैं। प्रक्रिया सभी प्लेटफार्मों पर समान है।

चरण 1: कोई भी UPI ऐप खोलें, जिस पर आपने पहले ही पंजीकरण कर लिया है। हमने Google पे के संदर्भ में नीचे दिए गए चरणों को सूचीबद्ध किया है।

चरण 2: “बिल” अनुभाग पर जाएं और “बिजली” चुनें।

चरण 3: आपको अपने बिजली बिलर जोड़ने होंगे। ऐप के प्रोफाइल में कई बिलर्स सूचीबद्ध हैं।

चरण 4: अब, आपको उस खाते को लिंक करना होगा जिसका भुगतान आप ऑनलाइन करना चाहते हैं। इसके लिए आपको अपने कंज्यूमर आईडी की जरूरत होगी। तो, इसे संभाल कर रखें। विशेष रूप से, यह एक महत्वपूर्ण कदम है जिसे टाला जाने पर ऑनलाइन भुगतान के साथ-साथ बिलिंग राशि प्राप्त करने की अनुमति नहीं होगी।

चरण 5: एक बार खाता सफलतापूर्वक लिंक हो जाने के बाद, यदि कोई हो तो आप लंबित बिल देख पाएंगे। साथ ही, बिलिंग राशि हर महीने ऑटो-फ़ेच की जाती है जिससे छूटे हुए भुगतानों पर नज़र रखना आसान हो जाता है।

.

और पढ़े  भारतीय कंपनियों को वैश्विक रूप से प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए विदेशी लिस्टिंग की अनुमति दें: स्टार्ट-अप संस्थापकों ने मोदी को बताया

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

close