शास्त्रो के अनुसार भूलकर भी इस दिशा कि तरफ मुंह करके नहीं सोए

0
Advertisement

लाइफस्टाइल। दोस्तों व्यक्ति सुबह से लेकर शाम तक काम करने पर शरीर मे थकान होने लगती हैं जिसके बाद व्यक्ति अपने शरीर को आराम के लिए सौते हैं। किसी व्यक्ति को कम से कम 8 घंटे आराम करना चाहिए ताकि आपका शरीर शरीर एकदम तंदुरुस्त रहे जिससे कई बीमारियों से दूर रह सकते हैं।

लेकिन दोस्तों शास्त्रों मे सोने के कुछ नियम बताए हैं जिन्हे अपनाने पर आप मानसिक तनाव से छुटकारा पा सकते हैं। शास्त्रों के अनुसार दोस्तों सोते समय हमारे पैर दक्षिण दिशा की ओर फैले हुए नहीं होने चाहिए। मतलब कि हमें उत्तर दिशा की तरफ मुँह रखकर नहीं सोना चाहिए। क्योंकि इससे हमें मानसिक तनाव का सामना करना पड़ सकता है। शास्त्रों के अनुसार दोस्तों शाम के समय कभी भी नहीं सोना चाहिए, सोते समय पैर दक्षिण दिशा की ओर न हों,

और पढ़े  Kariba Lake: यह है दुनिया की सबसे बड़ी मानव निर्मित झील

दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दे की रात्रि को भोजन करने के तुरंत बाद सोना नहीं चाहिए। सोने से पहले सद्ग्रंथों का अध्ययन और भगवान का स्मरण करना चाहिए। दोस्तों सोने का समय भी हमारे जीवन में बहुत मायने रखता है। सौर जगत धु्रव पर आधारित है। आपको बता दे की धु्रव के आकर्षण से दक्षिण से उत्तर दिशा की तरफ प्रगतिशील विद्युत प्रवाह हमारे सिर में प्रवेश करता है और पैरों के रास्ते निकल जाता है। ऐसा करने से भोजन आसानी से पच जाता है।

.

Advertisement
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here