लाइफस्टाइल। शास्त्रों के अनुसार आपको बता दे की श्रीहरि ने मोहिनी अवतार लिया था। दोस्तों उन्होंने यह अवतार तब लिया, जब समुद्र मंथन से अमृत निकला था। जानकारी के लिए बता दे की देवताओं और दानवों में यह वितरित करना था। हालांकि मोहिनी अवतार में श्रीहरि ने छल से देवताओं को अमृत और दानवों को अन्य द्रव्य पिलाया था।

पौराणिक अनुसार आपको बता दे की विष्णु जी के मोहनी रूप को ही अय्यप्पा की मां माना जाता है। दोस्तों श्रीहरि का मोहिनी रूप काफी आकर्षक था। पौराणिक अनुसार उन्होंने यह रूप लोककल्याण के लिए लिया था। बता दे की इस रूप में श्रीहरि एक बहुत सुंदर युवा स्त्री के रूप में प्रकट हुए थे। दोस्तों अग्नि पुराण 3.12 में वर्णित है कि अमृत वितरण के लिए श्रीहरि यानी विष्णु जी द्वारा मोहिनी रूप धारण किया गया। दोस्तो इसी समय भगवान शिव मोहिनी रूप पर आसक्त होकर स्लखित हो गए थे।

दोस्तों आपको बता दे की किंवदंती है कि जहां शिव स्खलित हुए वह स्थान गंगोत्री था। दरअसल यह तत्व ही अमुल्य पारद तत्व है। गंगाजल के कण-कण में पारद है। दोस्तों हिंदू शास्त्रानुसार यह पारद ही है जो संपूर्ण जगत के सृर्जन का मूलाधार है क्योंकि यह संसार आदि शक्ति के रज अर्थात गंधक और शिव की वीर्य अर्थात पारद से बना है।

और पढ़े  दुनिया के इन खूबसूरत होटलों को देखकर उड़ जाएंगे आपके होश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here