कोरोना के दौर में अकेलापन और चिंता का शिकार एक युवक ने जब खुद को परेशान पाया तो

लोग वर्चुअली यानी फेसबुक या अन्य सोशल साइटस, फोन कॉल्स से जरिए अपनों से जुड़ रहे हैं. कोरोना के अनिश्चितता भरे ऐसे माहौल में लोगों को अपनेपन की तलाश है।  ऐसे में अमेरिका में एक कॉल सेंटर लोगों के बीच प्रेम और अपनापन बांट रहा है। न्यूयॉर्क निवासी रोज वांग ने मदर्स डे पर अपनी मां के लिए गिफ्ट खरीदा था। इसके बारे में कुछ जानकारी के लिए उन्होंने ई-कॉमर्स कंपनी के कॉल सेंटर पर फोन किया तो कुछ अलग ही महसूस किया। अपनी जिज्ञासा शांत करने के अलावा उन्होंने कॉल सेंटर प्रतिनिधि क्रिस्टल मोजोल से करीब 45 मिनट तक बात की। पढ़ कर आश्चर्य हो रहा है न? पर हुआ कुछ ऐसा ही।

कोरोना के दौर में अकेलापन और चिंता का शिकार एक युवक ने जब खुद को परेशान पाया तो उसने सोचा कि दुनिया में कितने लोग इस समस्या को झेल रहे हैं। इस पर जेप्पोस ने अपना कॉल सेंटर खोल दिया। जहां कोई भी व्यक्ति, किसी भी मुद्दे पर बात कर सकता है और अपनी परेशानियां साझा कर सकता है।

कॉल सेट्र खोलने के युवक को रिटेल कंपनी के एक कर्मचारी ब्रायन काल्मा ने आइडिया दिया था। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन में आम दिनों की तरह वर्कलोड तो था नहीं, तो सभी साथी सोच रहे थे कि देश जब पूरी तरह अनलॉक हो जाए, उससे पहले ऐसा क्या करें कि वे लोगों के जेहन में बने रहें। यही सोचकर उन्होंने यह कॉल सेंटर शुरू किया। एक बार तो एक ग्राहक से करीब 11 घंटे तक प्रतिनिधि की बातचीत चली।

इस कॉल सेंटर में लोग ब्रेड बनाने के लिए आटा और किराना दुकान तक का पता भी पूछते हैं। कंपनी के कर्मचारियों ने बताया कि लोग भविष्य में करने वाली यात्राओं की योजना और ओटीटी प्लेटफॉर्म पर प्रसारित वेब सीरिज पर भी बातें करते हैं। प्रतिनिधियों का कहना है कि लोग अपनी दिनचर्या की जरूरतों के बारे में भी पूछते हैं। उनका कहना है कि लोगों की मदद करके उन्हें खुशी मिलती है

अगर हमारा पोस्ट आप लोगो को पसंद आया तो हमारे फेसबुक पेज को फॉलो और लाइक जरूर करे।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here