Health Tips: घर के इन मसालों को रोज ले काम में, कभी अस्पताल की जरुरत नहीं पड़ेगी

0
Advertisement

हमारे घर में हमारा क्लिनिक है। आप अपने ही अस्पताल के डॉक्टर भी हैं, आप नर्स भी हैं और कंपाउंडर भी हैं। अस्पताल का नाम हमारे घर का किचन है। जहां हर तरह का इलाज किया जा सकता है।

Advertisement


विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस पर दें सुझाव

हम जिस वातावरण में रहते हैं, उसमें बुखार, सर्दी, पेट दर्द जैसी कई बीमारियां संभव हैं। नतीजतन हम अस्पताल के दरवाजे खटखटाते हैं। हम मेडिकल स्टोर में घूमते हैं। तो हमारे किचन में क्या है, किचन को साफ क्यों रखें? अदाणी द्वारा संचालित जीके जनरल अस्पताल के डायटीशियन ने 9 जून को विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस पर टिप्स दिए हैं।

और पढ़े  Beauty tips: नहाने के पानी में करे इनका इस्तेमाल, त्वचा बनेगी  खूबसूरत और चमकदार

काली मिर्च-मसाले न सिर्फ स्वाद बढ़ाते हैं बल्कि कई बीमारियों को दूर रखने का भी काम करते हैं

आहार विशेषज्ञ वंदना मेसुरानी ने कहा कि दैनिक जीवन में उपयोगी काली मिर्च-मसाले का उपयोग न केवल स्वाद बढ़ाने के लिए बल्कि कई बीमारियों को दूर करने के लिए भी किया जाता है। गृहिणियां भी ठीक-ठीक जानती हैं कि इस मसाले का उपयोग कैसे करना है। उदाहरण के लिए, अदरक और अदरक त्रिदोष हत्यारे हैं। यह दस्त, हृदय रोग और पेट की बीमारियों से बचाता है। जीरा आयरन के लिए भी उपयोगी है। इसमें फाइबर होता है, लौंग पाचन तंत्र और दांतों के लिए जरूरी है।आपको जानकर हैरानी होगी कि लौंग में प्रोटीन, आर्सेनिक और मिनरल्स होते हैं। अजमो मस्तिष्क और प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए भी उपयोगी है।

और पढ़े  बेकरी से भी अच्छा पिज़्ज़ा बेस घर पर आसानी से बनायें

कोरो काल में सौंफ, हींग, जायफल और हल्दी का प्रयोग सर्वविदित है

इसके अलावा सौंफ, हींग, जायफल और हल्दी के प्रयोग को कोरो काल में दालचीनी और धनिया के रूप में जाना जाता है। मसाले आदि के साथ-साथ हाइजीन भी जरूरी है। साबुन से हाथ धोएं, फलों और सब्जियों को साफ पानी से धोएं, भोजन तैयार करें और उन्हें अलग रखें।गंदे पानी, गंदगी, कीड़े और सड़ी सब्जियों से बचें। किचन में धूम्रपान नहीं करना चाहिए। हवा का संचार होना चाहिए।

किचन की सफाई के लिए इस्तेमाल होने वाले तौलिये को हर दो महीने में बदलना जरूरी है

रसोई के बर्तनों को हर दो महीने में बदलना पड़ता है। इसके अलावा, खाना पकाने के दौरान ज़्यादा गरम न करें। माइक्रोवेव का बुद्धिमानी से उपयोग करने की सलाह दी जाती है। उन्होंने कहा कि मिलावट और पपीता, चाय के पाउडर में लौह चूर्ण, दूध में पानी का चूर्ण और केसर में मक्के के रेशम के सूखने जैसे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक कारकों के प्रति सावधानी बरती जानी चाहिए। यदि आप ऐसा करते हैं, तो आपकी रसोई एक आदर्श औषधि की आवश्यकता को पूरा करेगी।

और पढ़े  बस कुछ दिन और फिर होगा धमाका क्योकि  भारत में लॉन्च होगा Samsung का ये नया 5G स्मार्टफोन


Advertisement
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here