Identify Fake Gold: घर पर इन आसान ट्रिक से करें असली और नकली सोने की पहचान, जान लें

0
Advertisement

जब भारत में शादी या त्योहार के लिए कुछ विशेष निवेश या उपहार देने की बात आती है, तो हम हमेशा सोने की ओर रुख करते हैं। सोने के मूल्य में उतार-चढ़ाव होता है, जिससे नकली सोना भी कई जगह मिलता है। अपने पूरे इतिहास में, ज्वैलर्स द्वारा जालसाजी के जरिये अपने ग्राहकों को ठगने के लिए सोने का इस्तेमाल किया गया है। यह आम है क्योंकि भारत दुनिया का सबसे बड़ा सोने का उपयोगकर्ता है।

Advertisement

नकली सोने और असली सोने में क्या अंतर होता है? 41.7% या 10 कैरेट से कम सोने को अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार नकली माना जाता है। पहली नजर में, असली और नकली सोने के बीच अंतर बताना मुश्किल है।

और पढ़े  Oxygen Level: कोरोना से दूर रहने और ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने के लिए खुलकर मुस्कुराएं

इसलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि कैसे आपको असली और नकली सोने की पहचान करनी है।

मैग्नेट टेस्ट
सोने की शुद्धता की जांच करने के लिए सोने टुकड़ा के पास चुंबक रखकर आपको देखना है कि ये चुंबक की ओर आकर्षित होता है या नहीं।चूंकि मैग्नेट आसानी से उपलब्ध हैं, इसलिए यह परीक्षण बहुत सुविधाजनक है। अगर सोना चुंबक की ओर आकर्षित होता है तो आपको समझ जाना चाहिए कि ये असली सोना नहीं है।

हॉलमार्क
यह निर्धारित करने के लिए कि सोना प्रामाणिक है, हॉलमार्क जरूर देखें। BIS (भारतीय मानक ब्यूरो) की स्थापना भारत सरकार ने सोने के आभूषणों और सोने के सिक्कों को प्रमाणित करने के लिए की थी। यह लेबल स्पष्ट होगा क्योंकि यह सोने के पीछे छिपा होगा। प्रमाणीकरण निर्दिष्ट करता है कि सोना उस मानक का है जो विक्रेता कहता है।

और पढ़े  Fridge smell: फ्रिज से आ रही है बदबू तो देसी नुस्खों से दूर करें बदबू

फ्लोट टेस्ट
सोना एक मोटी, कठोर धातु है। सोने की जांच करने के लिए पानी की बाल्टी में अपने सोने के आभूषण गिराएं; अगर यह असली सोने से बना है, तो यह डूब जाएगा। नकली सोना ऊपर ही तैरता रहता है।

अग्नि परीक्षा
असली सोना नाइट्रिक एसिड के साथ प्रतिक्रिया नहीं करता है। हालांकि, यह अन्य धातुओं जैसे कि तांबा, जस्ता, स्टर्लिंग चांदी आदि के साथ प्रतिक्रिया करता है। इस परीक्षण को करते समय आपको अत्यधिक सावधानी बरतनी चाहिए। हवादार कमरे में इस परीक्षण को करते समय दस्ताने और एक मास्क पहनें। परीक्षण करने के लिए, गहने की सतह पर धीरे से खरोंच करें और नाइट्रिक एसिड को ड्रॉपर की मदद से इस पर डालें। यह संभावना है कि अगर सतह हरी हो जाए तो आपकी ज्वैलरी गोल्ड-क्लैड है। यदि आपके सोने में स्टर्लिंग होता है, तो एक दूधिया पदार्थ बाहर निकलता है। असली सोने में ऐसा कुछ नहीं होता।

और पढ़े  सावधान: अगर शरीर में हो रही है ये 3 दिक्कत, यानी फेफड़ों में पहुंचा है संक्रमण

सिरका टेस्ट
सोने पर सिरके की कुछ बूंदें डालें। अगर यह धातु के रंग को बदल देता है तो यह सोना असली नहीं है। अगर यह असली सोना है तो उसका रंग नहीं बदलेगा।

Advertisement
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here