इस तरह करें होलिका दहन की पूजा, जानें पूजन सामग्री के बारे में

0
Advertisement

रंग वाली होली के एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है। आज फाल्गुन माह की पूर्णिमा तिथि है और आज के दिन ही होलिका दहन किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि होलिका दहन से आस-पास के वातावरण में नई एवं सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। साथ ही लोगों के कष्टों का खात्मा भी होता है। आइए जानते हैं होलिका दहन की पूजन सामग्री, पूजा विधि और इस दिन ध्यान रखने योग्य बातें।

Advertisement

कैसे करें होलिका की तैयारी:

होलिका दहन के कुछ दिन पहले से ही किसी एक स्थान पर पेड़ की टहनियां, गोबर की उप्पलें, सुखी लकड़ियां, घास-फूस आदि इक्ट्ठा की जाती हैं। फिर होलिका दहन के एक दिन पहले वहां सुखी लकड़ियां, उप्पलें आदि रख दिए जाते हैं। ऐसे ही करते-करते होलिका दहन के दिन तक यहां पर सुखी लकड़ियों, उप्पलों आदि का ढेर लग जाता है।

और पढ़े  श्रीनगर की ये हैं वो खास जगह, जहां अप्रैल में जा सकते हैं आप घूमने

होलिका पूजन सामग्री:

एक लोटा जल, चावल, गन्ध, पुष्प, माला, रोली, कच्चा सूत, गुड़, साबुत हल्दी, मूंग, बताशे, गुलाल, नारियल, गेंहू की बालियां आदि।

होलिका दहन का शुभ मुहूर्त:

रविवार 28 मार्च 2021

होलिका दहन मुहूर्त

28 मार्च 2021- शाम 06 बजकर 36 मिनट से लेकर 08 बजकर 56 मिनट तक

कुल अवधि- लगभग 02 घंटे 19 मिनट

होलिका पर ऐसे करें पूजा:

हालिका दहन से पूर्व होलिका की पूजा की जाती है। इस दिन होलिका के पास पूर्व या उत्तर दिशा में मुख करके बैठ जाना चाहिए। फिर गणेश और गौरी की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद ओम होलिकायै नम: होलिका के लिए, ओम प्रह्लादाय नम: भक्त प्रह्लाद के लिए और ओम नृसिंहाय नम: भगवान नृसिंह के लिए, जाप किया जाता है। होलिका दहन के समय अग्नि में गेंहू की बालियों को सेंका जाता है। फिर उनको खा लें। कहा जाता है कि इससे व्यक्ति निरोगी रहता है।

और पढ़े  Boneyyard: इस जगह को कहा जाता है विमानों का कब्रिस्तान, जानिए इसके पीछे की रोचक वजह

Advertisement
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here