जाने किस तरह करता है Black Fungus आपकी आंखों को खराब और क्यों बनाता है जीवन भर के लिए अंधा

0
Advertisement

आंख को पोषण देने वाली नसें क्षतिग्रस्त हो जाती हैं इसलिए अगर इसे नहीं हटाया जाए तो दिमाग में काला फंगस पहुंच जाता है

Advertisement

काला फंगस शरीर के अन्य अंगों के साथ-साथ आंख को भी काफी नुकसान पहुंचाता है। अगर समय पर इलाज न किया जाए तो यह एक आंख खोने का समय है और लाखों रुपये खर्च करने के बावजूद दूसरी आंख नहीं लगाई जा सकती है। काला फंगस आंख को पोषण देने वाली नसों को नुकसान पहुंचाता है और अगर आंख नहीं हटाई गई तो काला फंगस दिमाग में पहुंच जाता है।

रोहतक के एक अस्पताल ने म्यूकोसल माइकोसिस पर एक अहम खुलासा किया है। जो कोई भी काले कवक से अंधा होता है, उसके फिर कभी बीमार होने की संभावना नहीं होती है। एक बार आंख हटा देने के बाद दूसरी आंख नहीं लगाई जा सकती।
डॉक्टरों का कहना है कि काला फंगस आंखों की नसों को पूरी तरह से नुकसान पहुंचाता है जिससे आंखें निकल जाती हैं। यदि लक्षण जल्दी पता चल जाए तो आंख को बचाया जा सकता है। पीजीआईएमएस-रोहतक में काले फंगस के कारण चार मरीजों की आंखों को हटा दिया गया है जो केवल कृत्रिम आंख पर लगाया जा सकता है लेकिन रोशनी वापस नहीं कर सकता।

नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ मार्कंडेय आहूजा ने कहा कि हरियाणा में अब तक काले कवक और सफेद कवक के अनुमानित 750 मामलों में से 60 मरीज ठीक हो चुके हैं और 600 का इलाज चल रहा है। ऐसे कई मरीज हैं जिनकी आंखों की रोशनी चली गई है लेकिन डॉक्टर जान बचाने में सफल रहे हैं।

और पढ़े  क्या आप जानते हैं भारत के इन शहरों के समोसे हैं मशहूर

उनका कहना है कि कोरोना संक्रमण के बाद मरीज आंखों में दर्द और सिर दर्द समेत अन्य समस्याओं को नजरअंदाज कर देता है जो उसे परेशान कर रही हैं। यह फंगल इंफेक्शन कोरोना से ठीक होने से पहले साइनस में होता है। दो-चार दिन बाद आंखों तक पहुंचता है और फिर दिमाग तक पहुंच जाता है। साइनस और आंख के बीच हड्डी होती है, फंगस दिमाग में जल्दी पहुंच जाता है क्योंकि आंख और दिमाग के बीच हड्डी नहीं होती है।

डॉक्टर ने कहा कि काले फंगस की वजह से आंख निकालनी पड़ती है ताकि फंगस दिमाग तक न पहुंचे। ब्लैक फंगस की एडवांस स्टेज में लोग स्ट्रेस में आ जाते हैं क्योंकि ऑपरेशन के बाद उनकी आंख नहीं होती है। ऐसे लोगों के लिए कक्षीय कृत्रिम अंग या एक्यूलोफेशियल कृत्रिम अंग लगाने का एक विकल्प है जो रोगी को रोशन नहीं करेगा लेकिन लोगों को यह नहीं पता होगा कि रोगी की आंखें नहीं हैं। कोरोना से ठीक हो चुके मरीजों में फंगस का खतरा अधिक रहता है।

और पढ़े  जमीन पर बैठने के फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे आप, जानिए


Advertisement
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here