Home lifestyle गीर में शेरों की आबादी पिछले 5 सालों में इस बार 29%...

गीर में शेरों की आबादी पिछले 5 सालों में इस बार 29% बढ़ी है

गुजरात का गौरव

Advertisement
पिछले 5 वर्षों में एशियाई शेरों की संख्या में 29% की वृद्धि हुई है। 2015 की जनगणना में शेरों की संख्या 523 थी जो 2020 में बढ़कर 674 हो गई। यह शेरों की आबादी में अब तक की सबसे बड़ी वृद्धि है। शेर की आबादी हर पांच साल में गिनी जाती है। इस बार कोविद -19 के मामले में शेर की आबादी को नहीं गिना जा सकता। इस बार 5 और 6 जून को पूनम अवलोकन विधि की गई। कुल 674 में से 161 पुरुष, 260 महिलाएं, 45 पुरुष, 49 महिलाएं, 22 अज्ञात महिलाएं और 137 शेर शावक हैं। 2015 में शेरों का क्षेत्रफल 22000 वर्ग किमी है। जो 2020 में बढ़कर 30000 वर्ग किलोमीटर हो गया। हुआ है। पिछले पांच वर्षों में विस्तार क्षेत्र 36 प्रतिशत बढ़ा है।

पूनम ने कैसे देखा?
5 जून को दोपहर 2 बजे से 6 जून को दोपहर 2 बजे तक शेरों की पूनम देखी गई। इस अभ्यास में 1400 कर्मचारी शामिल हुए। 13 विभिन्न वर्गों को प्रदान किया गया। जीपीएस स्थान, समय, शेरों की संख्या, व्यक्तिगत पहचान, निशान, रेडियो कोर्स संख्या, चित्र और ई-हंस वन डेटा दर्ज किए गए थे। जीआईएस और सांख्यिकीय सॉफ्टवेयर का उपयोग करके डेटा विश्लेषण किया गया था। इस विधि को ऑब्जेक्ट काउंट विधि के रूप में भी जाना जाता है।

दो दर्जन शेर मारे गए
अधिकारियों ने कहा कि बीबोसियोसिस नामक बीमारी के कारण पिछले तीन महीनों में लगभग दो दर्जन शेरों की मौत हो गई थी। अक्टूबर से नवंबर 2018 तक सीडीवी (केनी डिस्टेंपर वायरस) के कारण 40 शेरों की मौत हो गई।

30 साल में शेरों की संख्या दोगुनी हो गई है

साल सिंह
1936 287
1950 227
1955 290
1963 285
1968 177
1974 180
1979 205
1985 239
1990 284
1995 304
2001 327
2005 359
2010 411
2015 523
2020 674

 

अगर हमारा पोस्ट आप लोगो को पसंद आया तो हमारे फेसबुक पेज को फॉलो और लाइक जरूर करे।

 

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

x