तीसरी आंख/मोबाइल में मुंह रखकर चलने वालों के लिए विकसित किया गया विशेष तीसरा नेत्र, एक मीटर की दूरी से करेगा अलर्ट

0
Advertisement

कभी लोग सड़क पर चलते हुए देख रहे थे, अब मोबाइल स्क्रीन में ध्यान है। चलते-चलते ही नहीं और भी कई चीजों के अलावा मुंह मोबाइल में फंस जाता है। ऐसे लोगों को ‘स्मार्टफोन जॉम्बी’ कहा जाता है। स्मार्टफोन जॉम्बी से हादसों में इजाफा हुआ है। दक्षिण कोरिया के एक इंजीनियर ने इसका हल निकाला है।

Advertisement


प्योंग मिन वूक नाम के एक 28 वर्षीय डिजाइनर ने तीसरी आंख जैसा गैजेट बनाया है। उन्होंने इस गैजेट का नाम द थर्ड आई रखा है। क्योंकि गैजेट को भगवान शंकर के तीसरे नेत्र की तरह माथे पर धारण करना है। यह पहनने वाले को दृष्टि नहीं देगा लेकिन टकराने से पहले सचेत कर देगा।

और पढ़े  Battleground मोबाइल इंडिया के यूजर्स को इन तथ्यों का करना होगा पालन नहीं तो लग जाएगा प्रतिबन्ध

आज की आधुनिक कारों में एक खास तरह का सेंसर होता है। वाहन को पार्क करते या उलटते समय किसी वस्तु या अन्य वाहन के पास आने पर सेंसर बीप करता है और चालक को सचेत करता है। इसी सिद्धांत का पालन करते हुए मिन वूक ने थर्ड आई तैयार किया है।

इस रोबोटिक आंख को माथे पर टांगने के बाद मोबाइल में मुंह रखकर चलने वाला व्यक्ति एक या दो मीटर की बाधा के पास पहुंच जाता है और आंख सेंसर चालक को सचेत कर देता है। ताकि चलने वाला समझ सके कि कोई सामने आ रहा है या कोई खंभा है या कोई निर्माण या अन्य बाधा है। इसके सामने घूमना बंद किया जा सकता है।

और पढ़े  Smartphone भी आपको कर सकता है संक्रमित!, स्मार्टफोन सरफेस पर इतने समय तक जिंदा रह सकता है Corona Virus, ऐसे करें साफ

जब कोई पैदल यात्री सड़क से भटकना शुरू करेगा तो सेंसर सतर्क हो जाएगा

मिन वूक ने इस शोध के लिए दो तरह के सेंसर का इस्तेमाल किया है, जाइरो सेंसर सड़क पर चलने वाले व्यक्ति को तब अलर्ट करेगा जब वह किनारे से भटकने लगेगा। जबकि अल्ट्रासोनिक सेंसर प्रतिबाधा की दूरी को मापकर अलर्ट करेगा। इस तीसरी आंख को चलाने के लिए बैटरी की जरूरत होगी।

“मैंने यह शोध उन लोगों के लिए किया है जो चलते समय अपने मोबाइल से अपना मुंह नहीं निकाल सकते हैं,” मिन वूक ने रायटर को बताया। जब बाधा एक या दो मीटर की दूरी पर पहुंच जाएगी तो यह तीसरी आंख आपको एक बीप से सचेत कर देगी।’

और पढ़े  हर महीने मात्र 1,833 रुपये देकर घर ले आएं Lloyd की शानदार AC और चिलचिलती गर्मी में पाएं ठंडक का एहसास

हालांकि, मिन वूक ने कहा कि मेरा शोध वास्तव में एक व्यंग्य है। मैं नहीं चाहता कि लोग लगातार मोबाइल बने रहें और थर्ड-आई का उपयोग करें। मेरी मंशा है कि चलते-चलते मोबाइल फोन का इस्तेमाल बंद कर दूं।


Advertisement
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here